एक अस्पताल की यात्रा पर निबंध | Essay on A Visit To A Hospital in Hindi | A Visit To A Hospital Essay in Hindi

By निशा ठाकुर

Updated on:

A Visit To A Hospital Essay in Hindi :   इस लेख में हमने  एक अस्पताल की यात्रा पर निबंध के बारे में जानकारी प्रदान की है। यहाँ पर दी गई जानकारी बच्चों से लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं के तैयारी करने वाले छात्रों के लिए उपयोगी साबित होगी।

आप  लेखों, घटनाओं, लोगों, खेल, तकनीक के बारे में और  निबंध पढ़ सकते हैं  ।

एक अस्पताल की यात्रा पर लंबा निबंध (500 शब्द)

अस्पताल जाना अपने आप में एक अनुभव है। पिछली गर्मियों के दौरान, मेरे एक मित्र का एक्सीडेंट हो गया। उन्हें सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां मैंने उनसे मुलाकात की। मैंने इस अवसर का लाभ पूरे अस्पताल को देखने के लिए लिया। जैसे ही मैं अस्पताल में दाखिल हुआ, मैंने देखा कि लोग आते-जाते हैं। मैंने जांच कार्यालय में जाकर वार्डों के बारे में जानकारी ली।

सबसे पहले मैंने जनरल वार्ड का दौरा किया जहां मेरा दोस्त भर्ती था। वह अब काफी बेहतर था क्योंकि उसके घाव ठीक हो गए थे। फिर, मैंने सर्जिकल वार्ड का दौरा किया। मैंने देखा कि मरीज अपने बिस्तर पर चुपचाप लेटे हुए हैं। कुछ रोगियों के हाथ और पैर पर पट्टी बंधी हुई थी और उन पर प्लास्टर किया गया था। मैंने यह भी देखा कि कैसे एक नर्स और एक डॉक्टर उनकी देखभाल कर रहे थे। वे मरीजों के प्रति काफी सहानुभूति रखते थे।

डॉक्टर नर्स को जरूरी दवाएं देने का निर्देश दे रहे थे। उनके बात करने का तरीका अपने आप में बहुत सुकून देने वाला था। पूरे वार्ड में शांतिपूर्ण माहौल रहा। फिर मैं मेडिकल वार्ड में गया। मैंने देखा कि कुछ मरीज़ अपने बिस्तर पर बहुत सोच-समझकर लेटे हुए हैं।

उनके चेहरे से, मैंने उनकी दयनीय दुर्दशा का अनुमान लगाया। ऐसा लग रहा था कि वे सभी अपनी-अपनी बीमारियों से परेशान हैं। इस दौरान डॉक्टर ने उस वार्ड का चक्कर लगाया। उनके साथ कई जूनियर डॉक्टर भी थे। डॉक्टर व्यक्तिगत रूप से मरीजों के कल्याण के बारे में पूछताछ कर रहे थे।

उन्होंने मरीजों की पीड़ा को बहुत सहानुभूति से सुना। वह कुछ मरीजों को इंजेक्शन भी दे रहा था। दूसरों को, उन्होंने दवाओं या मिश्रणों की खुराक दी।

एक अस्पताल की यात्रा पर निबंध | Essay on A Visit To A Hospital in Hindi | A Visit To A Hospital Essay in Hindi

फिर, मैंने ऑपरेशन थियेटर की ओर रुख किया। थिएटर के बाहर, मैंने देखा कि मरीज़ ऑपरेशन का इंतज़ार कर रहे हैं, जो स्ट्रेचर पर पड़े हैं। गलियारे ने एक उदास रूप प्रस्तुत किया।

कुछ लोग अपनी बीमारी से ठीक होने के बाद अस्पताल के लॉन में बैठे थे। वे ताश और शतरंज खेल रहे थे। वे घास के लॉन में आनंद ले रहे थे, जबकि कुछ लोग अपनी बीमारी से पूरी तरह से ठीक होने के बाद घर जा रहे थे। वे आनंदमय मूड में थे।

पूरे अस्पताल ने मुझे बहुत उदास रूप में प्रस्तुत किया। मरीजों की दुर्दशा और मौजूदा माहौल की गंभीरता ने मुझे गहराई से छुआ। डॉक्टरों और नर्सों का व्यवहार काबिले तारीफ था। उन्होंने रोगियों की समस्याओं को संभालते हुए सबसे बुद्धिमानी और कुशलता से काम किया। बदले में, रोगी भी उनके सहानुभूतिपूर्ण व्यवहार से खुश थे।

अंत में, मैं अस्पताल से बाहर आ गया। अस्पताल के बाहर और अंदर के माहौल में अंतर की दुनिया थी।

इन्हें भी पढ़ें :-

विषय
एक अस्पताल की यात्रा पर निबंध चिड़ियाघर की यात्रा पर निबंध
मेले की यात्रा पर निबंध सिनेमाघर की यात्रा पर निबंध
एक सर्कस की यात्रा पर निबंध एक संग्रहालय की यात्रा पर निबंध
एक स्मार्ट गांव की यात्रा पर निबंध एक प्रदर्शनी की यात्रा पर निबंध
एक हिल स्टेशन की यात्रा पर निबंध एक ऐतिहासिक स्थान की यात्रा पर निबंध
एक ऐतिहासिक इमारत की यात्रा पर निबंध

निशा ठाकुर

मैं इतिहास विषय की छात्रा रही हूँ I मुझे विभिन्न विषयों से जुड़ी जानकारी साझा करना बहुत पसंद हैI मैं इस मंच बतौर लेखिका कार्य कर रही हूँ I

Related Post

नागरिक अधिकारों पर निबंध | Civil Rights Essay in Hindi

सामाजिक न्याय पर निबंध | Social Justice Essay in Hindi

भ्रष्टाचार पर निबंध | Corruption Essay in Hindi

समाजशास्त्र पर निबंध | Sociology Essay in Hindi

Leave a Comment