प्रेस की स्वतंत्रता पर भाषण | Speech On Freedom Of Press in Hindi

By निशा ठाकुर

Updated on:

Speech On Freedom Of Press in Hindi :  इस लेख में हमने  प्रेस की स्वतंत्रता पर भाषण के बारे में जानकारी प्रदान की है। यहाँ पर दी गई जानकारी बच्चों से लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं के तैयारी करने वाले छात्रों के लिए उपयोगी साबित होगी।

 प्रेस की स्वतंत्रता पर भाषण:  देश की भलाई के लिए प्रशासन और निगरानी की जानी चाहिए, और प्रेस यह कार्य करता है। प्रेस की आजादी का मतलब है कि जनता के सामने बेबुनियाद और कुंद सच को व्यक्त किया जाए।

इलाके, राष्ट्र और दुनिया की महत्वपूर्ण घटनाओं से लोगों को अवगत कराने के लिए प्रेस की स्वतंत्रता की आवश्यकता है। प्रेस लोगों के विचारों को आकार देने में बहुत बड़ी भूमिका निभाता है। इसलिए स्वतंत्र प्रेस की यह स्वतंत्रता जिम्मेदारी से की जानी चाहिए।

हमने विभिन्न विषयों पर भाषण संकलित किये हैं। आप इन विषय भाषणों से अपनी तैयारी कर सकते हैं।

प्रेस की स्वतंत्रता पर लंबा भाषण (500 शब्द)

यहां उपस्थित सभी लोगों को सुप्रभात,

आज, मैं प्रेस की स्वतंत्रता और देश के सामाजिक और राजनीतिक पहलुओं में इसके महत्व पर अपने निर्णय व्यक्त करने जा रहा हूं। प्रेस की स्वतंत्रता एक लोकतांत्रिक देश में मौलिक अधिकारों में से एक है। लेकिन लोगों के जीवन में प्रेस की भूमिका पर चर्चा करने से पहले हमें इसका अर्थ जानना चाहिए।

प्रेस एक ऐसा माध्यम है जिसके माध्यम से सच्चाई सामने आती है, लेकिन अगर इसे प्रतिबंधित किया जाए तो यह सफलतापूर्वक काम नहीं कर सकती है। प्रेस विभिन्न माध्यमों जैसे प्रिंट समाचार, रेडियो पर समाचार, टेलीविजन पर समाचार आदि का उपयोग करके सूचना या समाचार प्रसारित कर सकता है। हालांकि, इंटरनेट ने जानकारी एकत्र करने और प्रसारित करने की प्रक्रिया को प्रेस के लिए अधिक आरामदायक और अधिक सुलभ बना दिया है।

प्रेस की स्वतंत्रता तभी प्राप्त की जा सकती है जब सरकार निष्पक्ष समाचार रिपोर्टिंग और समाचारों के प्रसार के अधिकार को प्रतिबंधित नहीं करती है। प्रेस की स्वतंत्रता स्वतंत्रता और लोकतंत्र के प्रमुख पहियों में से एक है। प्रेस के माध्यम मुद्रित मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया आदि हैं। इन माध्यमों का उपयोग करके जनता को सच्चाई से अवगत कराया जाता है।

सत्ता में बैठे लोगों की निगरानी के लिए प्रेस की स्वतंत्रता की आवश्यकता होती है, इसलिए किसी देश में लोगों की स्वतंत्रता बनी रहती है। सत्ता में बैठे लोगों की निगरानी प्रेस द्वारा की जाती है ताकि वे इसका दुरुपयोग न करें। स्वतंत्र प्रेस के सतर्क स्वभाव से लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित होती है।

प्रेस आम आदमी की आवाज भी बनता है। सामाजिक व्यवधान के मामलों में, प्रेस ही हमें सूचित करता है। सरकार के प्रशासन का संतुलन भी प्रेस द्वारा शासित या अधिमानतः मॉनिटर किया जाता है। सामाजिक बुराइयों के खिलाफ सबसे पहले आवाज उठाने वाला प्रेस है, जब उसे अभिव्यक्ति और संचार की स्वतंत्रता है।

प्रेस एक लोकतांत्रिक देश में समाज के व्यक्तियों को प्रभावित करने वाले तथ्यों को एकत्रित, सत्यापित, प्रसारित करके सक्रिय रूप से कार्य करता है। जिन देशों में प्रेस की स्वतंत्रता नहीं है, वहां के लोग अज्ञात के अंधेरे में रहते हैं। यदि प्रेस को सेंसर कर दिया जाता है, तो इसका मतलब है कि नागरिकों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता भी समाप्त हो जाती है।

प्रेस देश के नागरिकों का प्रतीकात्मक प्रतिनिधित्व भी है। और प्रेस की स्वतंत्रता भी मशहूर हस्तियों और राजनेताओं को बहुमत की राय देने में मदद करती है। वैश्वीकरण के उद्भव के पीछे प्रेस भी एक अत्यधिक योगदान कारक है।

जिन देशों में प्रेस सामग्री को सेंसर किया जाता है, वे ज्यादातर तानाशाही के अधीन हैं। सरकार द्वारा प्रेस को सेंसर करने के पीछे एकमात्र मकसद तथ्यों को छिपाना है। साथ ही, प्रेस का दमन या हेरफेर अंततः नागरिकों को शक्तिहीन बना देता है।

जब किसी देश का प्रेस राजनेताओं की तरह सत्ता में बैठे लोगों द्वारा शासित होता है, तो भ्रष्टाचार, भेदभाव और उत्पीड़न जैसी सामाजिक बुराइयाँ मौजूद होती हैं। प्रेस या मीडिया द्वारा प्रदान की गई जानकारी जनता के विचारों को आकार देने के लिए जिम्मेदार है। जब प्रेस की स्वतंत्रता को सेंसर कर दिया जाता है तो सरकार के साथ कुछ भी गलत नहीं है, यह सोचने के लिए नागरिकों के साथ छेड़छाड़ की जाती है।

लेकिन प्रेस की स्वतंत्रता के प्रतिकूल प्रभाव भी पड़ सकते हैं। प्रेस के पास जनता के विचारों को प्रभावित करने की शक्ति है; इसलिए, उन्हें इस उत्तोलन का ईमानदारी से उपयोग करना चाहिए। जनता का भरोसा भी सरकार के भरोसे की तुलना में प्रेस में अधिक होता है। चूंकि प्रेस को बनाए रखने के लिए बड़ी जिम्मेदारियां हैं, इसलिए उन्हें बिना किसी मोड़ या हेरफेर या सच्चाई के घटनाओं या तथ्यों को सबसे स्पष्ट तरीके से प्रस्तुत करना चाहिए।

शुक्रिया।

प्रेस की स्वतंत्रता पर संक्षिप्त भाषण (150 शब्द)

सभी को नमस्कार!

हम सभी अपने दैनिक जीवन में प्रेस के महत्व के बारे में जानते हैं। हमें स्थानीय समाचारों के बारे में अपडेट रखने से लेकर वैश्विक परिस्थितियों से अवगत कराने तक, प्रेस यह सब करता है। लेकिन लोकतंत्र का एक महत्वपूर्ण पहलू होने के अलावा, प्रेस के कंधों पर कुछ महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां भी हैं।

चूंकि प्रेस पर जनता का भरोसा है, इसलिए प्रेस की स्वतंत्रता की स्वतंत्रता को सावधानी से और जिम्मेदारी से संचालित किया जाना चाहिए। प्रेस स्रोत, जब निगरानी नहीं की जा रही है, खतरनाक हो सकता है। एक प्रेस रिपोर्ट त्रुटिपूर्ण या भ्रष्ट हो सकती है क्योंकि एजेंसी के पास कुछ भी दिखाने की शक्ति है और यहां तक ​​कि अपने एजेंडे के अनुरूप तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर पेश कर सकती है।

प्रेस द्वारा गलत जानकारी दिखाने के कारण सार्वजनिक आक्रोश भी हो सकता है। प्रेस एजेंसियों को ऐसी झूठी सूचना देने से बचना चाहिए जो देश में अराजकता का कारण बन सकती हैं। प्रेस को संचालित करने का आदर्श तरीका जिम्मेदार पत्रकारिता का अभ्यास करना है। और प्रेस की स्वतंत्रता समाज में सद्भाव को बाधित नहीं करना चाहिए।

शुक्रिया।

प्रेस की स्वतंत्रता भाषण पर 10 पंक्तियाँ

  1. प्रेस की स्वतंत्रता जनता को सरकार की नीतियों और गलत कार्यों की आलोचना करने की क्षमता देती है।
  2. सरकार प्रेस को सैन्य योजनाओं और आंदोलनों को उजागर करने से प्रतिबंधित कर सकती है।
  3. सैन्य योजना के क्रियान्वयन के रूप में होने वाली घटनाओं के बाद, प्रेस इसके बारे में पोस्ट कर सकता है।
  4. यदि प्रेस सरकार की निगरानी नहीं करता है, तो वह उन कामों को करने के लिए प्रतिबद्ध हो सकता है जिन्हें जनता निश्चित रूप से अस्वीकार कर सकती है।
  5. एक वैश्विक मौलिक मानवाधिकार अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है।
  6. भारतीय संविधान में प्रेस की स्वतंत्रता की घोषणा की गई है।
  7. अपने संविधान में प्रेस की स्वतंत्रता की अवधारणा को अपनाने वाला पहला देश स्वीडन था।
  8. स्वीडन ने वर्ष 1766 में प्रेस की स्वतंत्रता अधिनियम की घोषणा की।
  9. प्रेस शब्द की उत्पत्ति जोहान्स गुटेनबर्ग के सोलहवीं शताब्दी के ‘प्रिंटिंग प्रेस’ से हुई है।
  10. जनता की स्वतंत्रता प्रेस की स्वतंत्रता से जुड़ी हुई है।
प्रेस की स्वतंत्रता पर भाषण | Speech On Freedom Of Press in Hindi

प्रेस की स्वतंत्रता भाषण पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1. किन कारणों से सरकार प्रेस को प्रतिबंधित कर सकती है?

उत्तर: कुछ मामलों में प्रेस की स्वतंत्रता सीमित है। सरकार सुरक्षा कारणों से प्रेस को ब्लॉक कर सकती है जैसे दुश्मन लड़ाकों के सामने सैन्य रणनीतियां उजागर हो रही हैं, जो संभावित खतरों को आमंत्रित कर सकती हैं। सरकार प्रेस को मानहानि से भी रोकती है। झूठी खबर प्रकाशित करने पर जनता या सरकार मीडिया पर मुकदमा कर सकती है।

प्रश्न 2. प्रेस के रूप में किन माध्यमों का गठन किया जा सकता है?

उत्तर: प्रिंट, ऑडियो (रेडियो समाचार), ऑडियो और वीडियो, डिजिटल (इंटरनेट पर लेख) प्रेस के कुछ माध्यम माने जाते हैं।

प्रश्‍न 3. प्रेस की स्‍वतंत्रता जनता की किस प्रकार सहायता करती है?

उत्तर: सरकार द्वारा बिना किसी हस्तक्षेप या हेरफेर के सूचना और राय प्राप्त करने और उन्हें प्रकाशित करने के अधिकार को प्रेस की स्वतंत्रता कहा जाता है। प्रेस हमें सार्वजनिक मामलों के बारे में सूचित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

साथ ही, प्रेस द्वारा अनेक प्रकार की आवाजों को सुनने के लिए एक मंच प्रदान किया जाता है। प्रेस एक लोकतांत्रिक देश की सरकारी गतिविधियों की निगरानी नागरिकों को सूचनाओं से अद्यतन करके करता है।

प्रश्न 4. प्रेस को दिए गए कुछ नाम क्या हैं?

उत्तर: प्रेस को जनता का ‘प्रहरी’, ‘अभिभावक’, ‘मनोरंजनकर्ता’, ‘शिक्षक’ आदि नाम दिया गया है।

इन्हें भी पढ़ें :-

सामान्य विषयों पर भाषण
मित्रता पर भाषण खेल-कूद पर भाषण
यात्रा और पर्यटन पर भाषण हास्य और ज्ञान पर भाषण
इंटरनेट पर भाषण सफलता पर भाषण
सड़क सुरक्षा पर भाषण साहसिक कार्य पर भाषण
धन पर भाषण फैशन भाषण
डॉक्टर पर भाषण पशु क्रूरता पर भाषण
युवाओं पर भाषण सपनों पर भाषण
जनरेशन गैप पर भाषण समाचार पत्र पर भाषण
कृषि पर भाषण जीवन पर भाषण
नेतृत्व पर भाषण सौर मंडल और ग्रहों पर भाषण
समय पर भाषण संगीत और उसके महत्व पर भाषण
पारिवारिक मूल्यों के महत्व पर भाषण प्रेस की स्वतंत्रता पर भाषण
लोकतंत्र बनाम तानाशाही पर भाषण “अगर मैं भारत का प्रधानमंत्री होता ” पर भाषण

निशा ठाकुर

मैं इतिहास विषय की छात्रा रही हूँ I मुझे विभिन्न विषयों से जुड़ी जानकारी साझा करना बहुत पसंद हैI मैं इस मंच बतौर लेखिका कार्य कर रही हूँ I

Related Post

जवाहरलाल नेहरू पर भाषण | Speech on Jawaharlal Nehru in Hindi

महात्मा गांधी के प्रसिद्ध भाषण | Famous Speeches Of Mahatma Gandhi in Hindi

एपीजे अब्दुल कलाम पर भाषण | Speech on APJ Abdul Kalam in Hindi

लाल बहादुर शास्त्री पर भाषण | Speech On Lal Bahadur Shastri in Hindi

1 thought on “प्रेस की स्वतंत्रता पर भाषण | Speech On Freedom Of Press in Hindi”

Leave a Comment