राष्ट्रीय बालिका दिवस पर निबंध | Essay on National Girl Child Day in Hindi | 10 Lines on National Girl Child Day in Hindi

By admin

Updated on:

Essay on National Girl Child Day in Hindi :  इस लेख में हमने राष्ट्रीय बालिका दिवस के बारे में जानकारी प्रदान की है। यहाँ पर दी गई जानकारी बच्चों से लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं के तैयारी करने वाले छात्रों के लिए उपयोगी साबित होगी।

 राष्ट्रीय बालिका दिवस पर 10 पंक्तियाँ: दुनिया भर में लिंगानुपात आश्चर्यजनक रूप से असंतुलित है। अंतर अब इतना स्पष्ट हो गया है कि यदि कोई व्यक्ति किसी सार्वजनिक स्थान पर जाता है और किसी स्थान पर बैठकर गुजरने वाले लोगों की संख्या की पहचान करता है, तो वे केवल अपनी नग्न आंखों से देखकर बता सकते हैं कि अनुपात वास्तव में असंतुलित है। देश के कई ग्रामीण हिस्सों में कन्या भ्रूण हत्या का उपयोग किया जा रहा है, जिसके कारण भारत में लिंग निर्धारण स्कैन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। लेकिन, भारत में बालिकाओं की सुरक्षा के लिए सबसे महत्वपूर्ण पहल राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत थी। तो, यहां आपको भारत के राष्ट्रीय बालिका दिवस के बारे में जानने की जरूरत है।

आप  लेखों, घटनाओं, लोगों, खेल, तकनीक के बारे में और  निबंध पढ़ सकते हैं  

बच्चों के लिए राष्ट्रीय बालिका दिवस पर 10 पंक्तियाँ

ये पंक्तियाँ कक्षा 1, 2, 3, 4 और 5 के छात्रों के लिए उपयोगी है।

  1. 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस के रूप में मनाया जाता है।
  2. 24 जनवरी 2008 वह दिन था जब पहला राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया गया था।
  3. यह एक नई शुरुआत थी और इसे कई महिलाओं का भरपूर समर्थन मिला।
  4. कई गैर सरकारी संगठन भी इस मुद्दे को उठाने और प्रचार करने के लिए आगे आए।
  5. राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा की गई थी।
  6. महिला एवं बाल विकास मंत्री रेणुका चौधरी ने वर्ष 2008 में इस दिन की आधारशिला रखी थी।
  7. इसके बाद उन्होंने 2009 में नई पहल को चिह्नित करने के लिए एक नया कैलेंडर लॉन्च करके इसे आगे बढ़ाया।
  8. इस दिन नई दिल्ली में राष्ट्रीय बालिका दिवस के लोगो का विमोचन भी हुआ।
  9. राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत और कार्यान्वयन भारत सरकार द्वारा पूरे देश में किया गया था।
  10. इस दिन के पीछे कारण और अच्छाई को देखते हुए, भारत सरकार आंदोलन के बहुत सहयोगी और समर्थक थी।

राष्ट्रीय बालिका दिवस स्कूल के छात्रों पर 10 पंक्तियाँ

ये पंक्तियाँ कक्षा 6, 7 और 8 के छात्रों के लिए उपयोगी है।

  1. सरकार की सराहना ने सभी ग्रामीण क्षेत्रों में राष्ट्रीय बालिका दिवस के उत्सव को अनिवार्य कर दिया।
  2. राष्ट्रीय बालिका दिवस का उद्देश्य देश में लड़कियों के सामने आने वाली समस्याओं के बारे में जागरूकता फैलाना है।
  3. एक लड़की को मृत्यु से लेकर जन्म तक कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है।
  4. कई महिलाओं को बच्चा होने पर गर्भपात कराने के लिए मजबूर होना पड़ता है।
  5. कई अन्य समस्याएं हैं जिन पर महिलाओं के साथ चर्चा की गई ताकि उन्हें यह जानने में मदद मिल सके कि क्या गलत है और क्या सही है।
  6. राष्ट्रीय बालिका दिवस देश में लड़कियों के अधिकारों के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देता है
  7. ग्रामीण क्षेत्रों में लड़कियों को यह नहीं दिखता कि उन्हें संविधान के अनुसार अधिकार प्राप्त हैं। इसलिए, स्वयंसेवक मौलिक मानवाधिकारों का प्रचार करते हैं और उन्हें मामूली मामलों में भी सहमति के महत्व को समझने में मदद करते हैं।
  8. राष्ट्रीय बालिका दिवस देश में लड़कियों की साक्षरता दर बढ़ाने पर केंद्रित है।
  9. स्वयंसेवक ग्रामीण क्षेत्रों में जाते हैं और लोगों को बालिकाओं की साक्षरता के महत्व के बारे में शिक्षित करते हैं।
  10. राष्ट्रीय बालिका दिवस लड़कियों के लिए स्वच्छता के महत्व को बढ़ावा देता है।

उच्च कक्षा के छात्रों के लिए राष्ट्रीय बालिका दिवस पर 10 पंक्तियाँ

ये पंक्तियाँ कक्षा 9, 10, 11, 12 और प्रतियोगी परीक्षाओं के छात्रों के लिए सहायक है।

  1. भारत में पुरुष और महिला साक्षरता दर में लगभग 15% का अंतर है।
  2. सांख्यिकीय रूप से, हमारे देश में महिला साक्षरता दर महिलाओं में 65.46% और पुरुषों में 80% है।
  3. कई गांवों में ग्रामीण क्षेत्रों में लड़कियों के शौच और स्नान खुले हैं। वे निजी शौचालयों और स्नानागारों के महत्व को समझने में विफल रहते हैं।
  4. स्वयंसेवक उन्हें बंद शौचालय और स्नानघर के महत्व को समझने में मदद करते हैं, जो स्वच्छता के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिए भी आवश्यक है।
  5. राष्ट्रीय बालिका दिवस का उद्देश्य महिला स्वास्थ्य और पोषण के बारे में अधिक जागरूकता फैलाना है।
  6. स्वयंसेवकों ने युवा लड़कियों को उनके शरीर में होने वाले परिवर्तनों के बारे में बताया और फिट रहने के लिए उन्हें क्या करना चाहिए।
  7. राष्ट्रीय बालिका दिवस बालिकाओं के सम्मान की रक्षा करता है और हमारे देश में एक बालिका के साथ हुए अन्याय के खिलाफ खड़ा होता है।
  8. देश के कई हिस्से लड़कियों को एक बोझ समझते हैं, जो वाकई में बहुत बुरा है।
  9. इससे देश में गर्भपात बढ़ रहा है, जिससे महिला महत्व कम हो रहा है और देश के लिंगानुपात में बदलाव आ रहा है।
  10. महिलाएं पुरुषों के बराबर हैं और समान अधिकारों की हकदार हैं। यह राष्ट्रीय बालिका दिवस द्वारा सुनिश्चित किया जाता है।
राष्ट्रीय बालिका दिवस पर निबंध | Essay on National Girl Child Day in Hindi | 10 Lines on National Girl Child Day in Hindi

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1. राष्ट्रीय बालिका दिवस पहली बार कब मनाया गया था ?

उत्तर: पहला राष्ट्रीय बालिका दिवस 4 जनवरी 2008 को मनाया गया था। यह एक नई शुरुआत थी और इसे कई महिलाओं का भरपूर समर्थन मिला।

प्रश्न 2. राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत किसने की और इसे कैसे आगे बढ़ाया गया?

उत्तर: रेणुका चौधरी महिला एवं बाल विकास मंत्री थीं, जब उन्होंने इस दिन को मनाने का सुझाव दिया था। उन्हें भारत सरकार का समर्थन प्राप्त था, जिन्होंने राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाकर लड़कियों को सशक्त बनाना अनिवार्य कर दिया था।

प्रश्न 3. लिंगानुपात में इस असंतुलन का कारण क्या है?

उत्तर: भारत में इस असंतुलन का मुख्य कारण लोगों में लड़का पैदा करने की इच्छा है। सदियों पहले राजशाही के समय से समाज पितृसत्तात्मक है। ऐसे में बेटियों की सुरक्षा बेहद जरूरी है।

प्रश्न 4. भारत में बालिकाओं की सुरक्षा के लिए अन्य क्या कदम उठाए गए हैं?

उत्तर: भारत सरकार बालिका शिक्षा का बहुत समर्थन करती है और कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए कई कदम उठाए हैं। “बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ” भारत में एक और प्रमुख बालिका सशक्तिकरण आंदोलन है।

इन्हें भी पढ़ें :-

जनवरी के सामाजिक कार्यक्रम उत्सव की तिथि
प्रवासी भारतीय दिवस 21 से 23 जनवरी
तेल और गैस संरक्षण सप्ताह और पखवाड़ा 4 से 10 जनवरी
राष्ट्रीय युवा दिवस 12 जनवरी
सेना दिवस 15 जनवरी
पिन कोड सप्ताह 15 से 21 जनवरी
सुभाष चंद्र बोस की जयंती 23 जनवरी
राष्ट्रीय बालिका दिवस 24 जनवरी
अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस 24 जनवरी
भारत का गणतंत्र दिवस 26 जनवरी
अंतर्राष्ट्रीय सीमा शुल्क दिवस 26 जनवरी
कुष्ठ रोग दिवस 30 जनवरी
शहीद दिवस 30 जनवरी

Related Post

नागरिक अधिकारों पर निबंध | Civil Rights Essay in Hindi

सामाजिक न्याय पर निबंध | Social Justice Essay in Hindi

भ्रष्टाचार पर निबंध | Corruption Essay in Hindi

समाजशास्त्र पर निबंध | Sociology Essay in Hindi

Leave a Comment