इसरो पर निबंध | Essay on ISRO in Hindi | ISRO Essay in Hindi

By admin

Updated on:

ISRO Essay in Hindi :  इस लेख में हमने  इसरो पर निबंध के बारे में जानकारी प्रदान की है। यहाँ पर दी गई जानकारी बच्चों से लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं के तैयारी करने वाले छात्रों के लिए उपयोगी साबित होगी।

 इसरो पर निबंध:  भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन भारत की राष्ट्रीय अंतरिक्ष एजेंसी है। इसकी स्थापना 1969 में एक भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम विकसित करने के लिए की गई थी। इसरो केंद्रों के देशव्यापी नेटवर्क के माध्यम से काम करता है। इसरो प्राथमिक एजेंसी है जो अंतरिक्ष आधारित अनुप्रयोगों से संबंधित कार्य करती है।

इसरो ने अन्य देशों के 50 से अधिक उपग्रहों को लॉन्च किया है। भारत में, उपग्रहों का निर्माण उनका विकास और उनका प्रक्षेपण इसरो द्वारा किया जाता है। इसरो द्वारा किए गए अंतरिक्ष-आधारित प्रयोगों की मदद से अंतरिक्ष और ग्रह संबंधी शोध और उनके विकास कार्य किए जाते हैं। इसरो की कई महत्वपूर्ण परियोजनाओं पर काम करने के दौरान भारतीय उपग्रह प्रक्षेपण यान के निर्माण में डॉ एपीजे अब्दुल कलाम की प्रमुख भूमिका थी।

आप विभिन्न विषयों पर निबंध पढ़ सकते हैं।

इसरो पर लम्बा  निबंध ( 300 शब्द)

ISRO भारत सरकार के अंतरिक्ष विभाग के अधीन अंतरिक्ष एजेंसी है। इसका मुख्यालय बेंगलुरु, कर्नाटक में स्थित है। अंतरिक्ष अनुसंधान गतिविधियों को 1962 में भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के संस्थापक डॉ विक्रम साराभाई द्वारा शुरू और निर्देशित किया जाता है। इसरो का गठन 1969 में किया गया था, जिसमें ग्रहों की खोज को आगे बढ़ाने की प्रक्रिया के दौरान राष्ट्रीय विकास में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी और अंतरिक्ष विज्ञान अनुसंधान के विकास और दोहन की दृष्टि थी।

इसरो ने अपने पूर्ववर्ती अंतरिक्ष अनुसंधान के लिए भारतीय राष्ट्रीय समिति की जगह ली थी जिसे भारत के पहले प्रधान मंत्री द्वारा वर्ष 1962 में स्थापित किया गया था। इसरो ने दुनिया की कुलीन अंतरिक्ष एजेंसियों में एक स्थान हासिल किया है। इसरो द्वारा बनाया गया पहला भारतीय उपग्रह आर्यभट्ट था और 19 अप्रैल 1975 को सोवियत संघ की मदद से लॉन्च किया गया था।

1980 एक महत्वपूर्ण वर्ष था क्योंकि इसने रोहिणी के प्रक्षेपण को चिह्नित किया, पहला उपग्रह जिसे एसएलवी -3 द्वारा सफलतापूर्वक कक्षा में रखा गया था। वर्ष 2014 में जनवरी में, इसरो ने GSLV-D5 के लिए एक स्वदेश निर्मित क्रायोजेनिक इंजन का उपयोग किया, जो GSAT-14 उपग्रह का प्रक्षेपण था जिसने इसे क्रायोजेनिक तकनीक विकसित करने वाले केवल छह देशों में से एक बना दिया।

कई वर्षों के दौरान इसरो ने आम आदमी के साथ-साथ राष्ट्र की सेवा में जगह शामिल करने का प्रयास किया है। इसरो संचार उपग्रहों और रिमोट सेंसिंग उपग्रहों के सबसे बड़े बेड़े में से एक का रखरखाव करता है जो तेज और विश्वसनीय संचार और पृथ्वी अवलोकन की चल रही मांग को पूरा करता है। इसरो राष्ट्र के लिए अनुप्रयोग विशिष्ट उपग्रह उत्पादों और उपकरणों को वितरित करने की जिम्मेदारी भी लेता है।

तकनीकी क्षमताओं के अलावा, इसरो ने देश की विज्ञान और विज्ञान शिक्षा में भी योगदान दिया है। वैज्ञानिक समुदाय को डेटा प्रदान करने के अलावा, विज्ञान शिक्षा को प्रोत्साहित करने और बढ़ावा देने के लिए अन्य विशिष्ट परियोजनाओं के साथ इसरो के अपने स्वयं के चंद्र और अंतरग्रहीय मिशन हैं।

इसरो ने दो रॉकेट विकसित किए हैं, ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी), जो उपग्रहों को ध्रुवीय कक्षाओं में प्रक्षेपित करने के लिए था और भूस्थिर कक्षाओं में उपग्रहों को रखने के लिए भूस्थैतिक उपग्रह प्रक्षेपण यान (जीएसएलवी)। इसरो ने 22 अक्टूबर 2008 को चंद्रयान-1 चंद्रयान भेजा था जिसने बर्फ के रूप में चंद्र जल की खोज की थी। इसने 5 नवंबर 2013 को मार्स ऑर्बिटर मिशन भी भेजा था, जिसने 24 सितंबर 2014 को मंगल की कक्षा में प्रवेश किया था, जिसने भारत को मंगल ग्रह पर अपने प्रयास में सफल होने वाला पहला देश बना दिया था।

18 जून को इसरो ने 15 फरवरी 2017 को एक वाहन में 20 उपग्रह और एक ही रॉकेट में 104 उपग्रहों को प्रक्षेपित किया और विश्व रिकॉर्ड बनाया। 22 जुलाई 2019 को इसरो ने चंद्र भूविज्ञान और चंद्र जल के वितरण का अध्ययन करने और अवलोकन करने के लिए चंद्रयान -2 लॉन्च किया।

इसरो ने विकास अनुप्रयोगों के लिए भारतीय राष्ट्रीय उपग्रह (इनसैट) कार्यक्रम को विकसित करने में भी योगदान दिया। 1.5 अरब डॉलर के बजट के साथ इसरो अंतरिक्ष एजेंसियों में पूरी दुनिया में 5वें स्थान पर है। इसरो ने 50 साल पहले अपनी स्थापना के बाद से एक लंबा सफर तय किया है और अभी भी एक लंबा सफर तय करना है और चमत्कार करना है।

इसरो पर लघु निबंध ( 150 शब्द)

ISRO भारत सरकार की एक अंतरिक्ष एजेंसी है। इसका मुख्यालय कर्नाटक के बैंगलोर शहर में स्थित है। इसरो की स्थापना वर्ष 1962 में हमारे पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने की थी। प्रसिद्ध वैज्ञानिक विक्रम साराभाई उनके सहायक थे। वह इसरो के पहले अध्यक्ष थे। उन्हें भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम का जनक कहा जाता था।

इसरो का मुख्य उद्देश्य विभिन्न राष्ट्रीय कार्यों के लिए राष्ट्र को लाभ पहुंचाने के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का विकास करना था। इसरो ने 75 अंतरिक्ष यान मिशनों को सफलतापूर्वक पूरा किया है। इसरो द्वारा 46 लॉन्च मिशन सफलतापूर्वक किए गए हैं। SLV पहला भारतीय निर्मित वाहन था जिसने उपग्रह रोहिन को प्रक्षेपित किया।

इसरो की योजनाओं में नई पीढ़ी के भू प्रेक्षण उपग्रहों पर परियोजनाएं शामिल हैं। इसरो ने दो वाहनों को लॉन्च करने की योजना बनाई है, जो एकीकृत लॉन्च वाहन और पुन: प्रयोज्य लॉन्च वाहन प्रौद्योगिकी प्रदर्शनकर्ता हैं।

1. अंतरिक्ष विभाग इसरो के संगठन का प्रबंधन करता है।

2. इसरो का मुख्य लक्ष्य अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का विकास करना है।

3. ISRO को पहले INCOSPAR के नाम से जाना जाता था।

4. इसका मुख्यालय दक्षिण भारत में स्थित है।

5. 51 विदेशी उपग्रहों को प्रक्षेपित करने के लिए इसरो के प्रक्षेपण यान का उपयोग किया गया है।

6. इसी प्रकार इसरो के अट्ठाईस उपग्रहों को विदेशी प्रक्षेपण यान द्वारा प्रक्षेपित किया गया है।

7. इसरो ने टेलीमेडिसिन में मानवता के लाभ के लिए अपनी तकनीक को लागू किया है।

8. इसरो द्वारा लॉन्च किए गए एसएलवी का उद्देश्य 500 किमी की निचली पृथ्वी की कक्षा तक पहुंचना था।

9. इसरो की चार में से केवल दो परीक्षण उड़ानें सफल रहीं।

10. ASLV इसरो द्वारा लॉन्च किया गया 5 चरण का ठोस प्रणोदक रॉकेट था।

इसरो पर निबंध | Essay on ISRO in Hindi | ISRO Essay in Hindi

इसरो निबंध पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1.  ISRO में कितने केंद्र हैं?

उत्तर: छह केंद्र और कई अन्य इकाइयां, एजेंसियां ​​और सुविधाएं पूरे देश में फैली हुई हैं।

प्रश्न 2.   भारत का पहला प्रक्षेपण यान कौन सा था?

उत्तर: सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल-3 (SLV-3) भारत में पहला लॉन्च व्हीकल था।

प्रश्न 3.  इसरो का मुख्य उद्देश्य क्या है?

उत्तर: इसरो का मुख्य उद्देश्य अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का विकास करना और विभिन्न राष्ट्रीय आवश्यकताओं की पूर्ति करना है।

इन्हें भी पढ़ें :-

विज्ञान और प्रौद्यौगिकी  विषय से सम्बंधित अन्य निबंध
विषय
इंटरनेट पर निबंध कंप्यूटर की लत पर निबंध
इंटरनेट के नुक्सान पर निबंध प्रौद्योगिकी की लत पर निबंध
इंटरनेट के उपयोग पर निबंध मोबाइल की लत पर निबंध
कंप्यूटर के महत्व पर निबंध इंटरनेट की लत पर निबंध
जीवन में इन्टरनेट और कम्पुटर की भूमिका पर निबंध वीडियो गेम की लत पर निबंध
प्रौद्यौगिकी पर निबंध साइबर सुरक्षा पर निबंध
विज्ञान और प्रौद्यौगिकी पर निबंध सोशल मीडिया की लत पर निबंध
प्रौद्यौगिकी के महत्व पर निबंध टीवी की लत पर निबंध
भारतीय अन्तरिक्ष कार्यक्रम पर निबंध साइबर अपराध पर निबंध
सोशल मीडिया के फायदे और नुक्सान कंप्यूटर पर निबंध
साहित्यिक चोरी पर निबंध टेलीफोन पर निबंध
इसरो पर निबंध UFO पर निबंध
विज्ञान पर निबंध चंद्रमा पर जीवन के बारे में निबंध
विज्ञान के चमत्कार पर निबंध मोबाइल फोन के नुक्सान पर निबंध
हमारे दैनिक जीवन में टेलीविजन पर निबंध सुपर कंप्यूटर पर निबंध
विज्ञान के उपयोग और दुरपयोग पर निबंध ई-अपशिष्ट पर निबंध
मोबाइल फोन पर निबंध विज्ञान एक वरदान या अभिशाप है पर निबंध
मनुष्य बनाम मशीन पर निबंध मीडिया की भूमिका पर निबंध
सोशल मीडिया पर निबंध इंटरनेट एक वरदान है पर निबंध

Related Post

मिल्खा सिंह पर निबंध | Milkha Singh Essay in Hindi

मैरी कॉम पर निबंध | Essay on Mary Kom in Hindi | Mary Kom Essay in Hindi

नागरिक अधिकारों पर निबंध | Civil Rights Essay in Hindi

सामाजिक न्याय पर निबंध | Social Justice Essay in Hindi

Leave a Comment