जैव विविधता के संरक्षण पर निबंध | Conservation of Biodiversity Essay in Hindi

By admin

Updated on:

Conservation of Biodiversity Essay in Hindi  इस लेख में हमने  जैव विविधता के संरक्षण पर निबंध के बारे में जानकारी प्रदान की है। यहाँ पर दी गई जानकारी बच्चों से लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं के तैयारी करने वाले छात्रों के लिए उपयोगी साबित होगी।

जैव विविधता के संरक्षण पर निबंध: धरती माता विभिन्न प्रजातियों का घर है और एक ऐसा स्थान है जहां वे सह-अस्तित्व में रह सकते हैं। जैव विविधता शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है – जैविक और विविधता। इसका मतलब है कि विविध जीवित जीव एक साथ एक पारिस्थितिकी तंत्र में खुद को बनाए रखते हैं। पारिस्थितिकी तंत्र में जीवों के विभिन्न समुदाय शामिल हैं, जिनमें वन, प्रवाल भित्तियाँ, वन्यजीव, रोगाणु आदि शामिल हैं। आश्चर्यजनक संख्या में 8.7 मिलियन प्रजातियाँ ग्रह पृथ्वी पर निवास करती हैं।

जैव विविधता का अस्तित्व पृथ्वी ग्रह का एक अनिवार्य तत्व है। प्रत्येक जीव अन्योन्याश्रित है और एक दूसरे से जुड़ा हुआ है। इस ग्रह पर सब कुछ एक जटिल जाल में है। हालांकि, मानव द्वारा संसाधनों का दोहन जैव विविधता के पारिस्थितिक संतुलन के लिए खतरा है। इस प्रकार, सभी प्रजातियों का संरक्षण और समर्थन करना आवश्यक हो जाता है।

आप विभिन्न विषयों पर निबंध पढ़ सकते हैं।

जैव विविधता के संरक्षण पर लंबा निबंध (500 शब्द)

जैव विविधता दो शब्दों का मेल है – जैविक और विविधता। इसलिए, ‘जैव विविधता’ शब्द की परिभाषा में एक पारिस्थितिकी तंत्र में सह-अस्तित्व में रहने वाले जीवों की एक विशाल विविधता शामिल है। जैव विविधता सूक्ष्मतम सूक्ष्म जीवों से लेकर सबसे बड़े स्तनपायी तक होती है। इसमें बैक्टीरिया, पौधों, जानवरों और मनुष्यों की कई प्रजातियां भी शामिल हैं। हाल के अध्ययन ने दुनिया भर में 8.7 मिलियन विभिन्न प्रजातियों की खोज की, जिनमें से एक सामान्य आदमी केवल 1.2 मिलियन प्रजातियों को ही पहचानता है।

हालांकि, मौजूदा जैव विविधता खतरे में है। प्राकृतिक और मानवीय दोनों गतिविधियाँ पारिस्थितिकी तंत्र को ख़राब करने में योगदान दे रही हैं। बदलती जलवायु और विदेशी प्रजातियों के संक्रमण से वर्तमान जैव विविधता को खतरा है। इसके अलावा, आधुनिकीकरण, शहरीकरण और आक्रामक महत्वाकांक्षाओं की खोज में, मनुष्य प्राकृतिक आवास का शोषण कर रहे हैं। कई कारक, जैसे निवास स्थान का विखंडन, वायुमंडलीय प्रदूषण, मानव द्वारा प्राकृतिक संसाधनों का अति-उपभोग, आदि ग्रह पर अतिरिक्त दबाव डाल रहे हैं।

दस लाख से अधिक प्रजातियां विलुप्त होने के कगार पर हैं। ग्रह पर हावी होने की चाह में मनुष्यों ने पर्यावरण को बदल दिया है। इस प्रकार, पृथ्वी की विशाल संपदा धीरे-धीरे लुप्त होती जा रही है। ग्रह पर ऐसे तीस या अधिक धब्बे हैं जहां कई प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा है। वैज्ञानिकों ने इन क्षेत्रों को जैव विविधता हॉटस्पॉट करार दिया है। ये जैव विविधता हॉटस्पॉट विभिन्न प्रकार की प्रजातियों के 60% के लिए घर हैं।

जैव विविधता के संरक्षण में भाग लेना समय की मांग है। संरक्षण के लिए एक और शब्द पर्यावरण की देखभाल है। घटती जैव विविधता को रोकने के लिए पहला कदम पौधों और जानवरों को उनके प्राकृतिक आवास में संरक्षित करना है।

स्वार्थी उद्देश्यों के लिए भूमि के विखंडन को समाप्त करके विभिन्न प्रजातियों के लिए एक सुरक्षित आवास बनाना संभव होगा। कई प्रजातियां प्रदूषण के प्रति संवेदनशील हैं। उदाहरण के लिए, सैल्मन केवल मीठे पानी में ही पनप सकते हैं। धारा में जहरीले रसायनों की सांद्रता से सामन की घटती आबादी हो सकती है। इसके अलावा, जीवाश्म ईंधन के जलने से कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन होता है, जो कुछ प्रजातियों के लिए हानिकारक है। वनों की कटाई के परिणामस्वरूप बड़ी संख्या में प्रजातियां बेघर हो जाती हैं। इसके अलावा, वनों की कटाई से जलवायु परिवर्तन भी होता है। यह प्रवासी प्रजातियों को नुकसान पहुंचाता है।

देशी पौधे और जानवर जीवित रहते हैं जब वे पर्यावरण के साथ स्वतंत्र रूप से बातचीत करते हैं। बेहतर होगा कि उन्हें उनके प्राकृतिक आवास में परेशान न किया जाए। इस प्रकार, मनुष्यों को अपने कार्यों की जिम्मेदारी लेने की जरूरत है, और सचेत रूप से पर्यावरण को प्रदूषित करना बंद करना चाहिए।

सरकार प्राकृतिक आवास को बहाल करके और संरक्षित क्षेत्रों को आवंटित करके जैव विविधता का संरक्षण कर रही है। इसके अलावा, जंगल में रहने वाले जानवरों की सुरक्षा के लिए एक पहल, सरकार वन्यजीव व्यापार और अवैध शिकार पर रोक लगा रही है। सरकार जैव विविधता संरक्षण को मुख्यधारा में लाने के लिए आगे की कार्रवाई करेगी। सरकार मत्स्य पालन, खनन, खेती, ग्रीन ज़ोन क्षेत्रों में कंक्रीट निर्माण आदि की दिशा में काम कर रही है, जिससे कई प्रजातियों को स्वतंत्र रूप से बातचीत करने और आपस में जुड़ने में सक्षम बनाया जा सके।

जैव विविधता के संरक्षण पर लघु निबंध (200 शब्द)

जैव विविधता में पृथ्वी पर सभी जीवित जीव शामिल हैं। इसमें पौधों, जानवरों, बैक्टीरिया से लेकर कवक तक विभिन्न प्रकार के जीवन रूप शामिल हैं। हालाँकि, आज के समय में पृथ्वी वनस्पतियों और जीवों के साथ-साथ आनुवंशिक विविधता को भी खो रही है।

मानव प्रजातियों पर हावी होने के कारण, पौधों और जानवरों की कई अन्य प्रजातियां खतरनाक दर से विलुप्त हो रही हैं। प्रदूषण, वनों की कटाई, ग्लोबल वार्मिंग, पारिस्थितिकी तंत्र का अति-शोषण और जानवरों का आवेगपूर्ण शिकार पृथ्वी की प्राकृतिक जैव विविधता को कम कर देता है।

मानव जैव विविधता के लिए सबसे बड़ा खतरा है। वैज्ञानिकों ने दुनिया के तीस से अधिक क्षेत्रों को वैश्विक जैव विविधता हॉटस्पॉट के रूप में पहचाना है। एक ओर, इन क्षेत्रों में प्रचुर मात्रा में संसाधन हैं। दूसरी ओर, ये लुप्तप्राय प्रजातियों के उच्च जोखिम वाले क्षेत्र हैं। पारिस्थितिक तंत्र में, प्रत्येक प्राणी अन्योन्याश्रित और परस्पर जुड़ा हुआ है। किसी एक प्रजाति का उन्मूलन पूरी खाद्य श्रृंखला को बाधित कर सकता है।

जैव विविधता के संरक्षण की तलाश में, यह कार्बन फुटप्रिंट्स को कम करने के लिए मजबूर कर रहा है। वनरोपण, पुन: उपयोग, पुनर्चक्रण और कचरे को कम करने से जैव विविधता को और नुकसान से बचाने में योगदान हो सकता है। वन्यजीव अभयारण्य और जैव विविधता भंडार का निर्माण जैव विविधता की प्राकृतिक बहाली में सहायता कर सकता है। इस प्रकार, मनुष्यों सहित प्रत्येक प्रजाति के अस्तित्व के लिए हमें जैव विविधता का संरक्षण करना चाहिए। हमें अगली पीढ़ी को उसी रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित करने के लिए एक उदाहरण स्थापित करना चाहिए।

जैव विविधता के संरक्षण पर निबंध | Conservation of Biodiversity Essay in Hindi

जैव विविधता के संरक्षण पर 10 पंक्तियाँ

  1. जैव विविधता पौधों, जानवरों और ग्रह पृथ्वी पर सह-अस्तित्व वाले सूक्ष्म जीवों की कई प्रजातियों का मिश्रण है।
  2. हाल के अध्ययन से दुनिया भर में 8.7 मिलियन विभिन्न प्रजातियों के अस्तित्व का पता चलता है।
  3. दुनिया भर में मानवीय गतिविधियाँ जैव विविधता के लिए खतरा हैं।
  4. वनों की कटाई, जीवाश्म ईंधन का जलना, विदेशी प्रजातियों का संक्रमण, जलवायु परिवर्तन, आवास का विखंडन, घटती जैव विविधता के कुछ कारण हैं।
  5. वैज्ञानिकों ने दुनिया के तीस से अधिक क्षेत्रों को जैव विविधता हॉटस्पॉट के रूप में पहचाना है।
  6. हमें जैव विविधता के संरक्षण में भाग लेना चाहिए।
  7. हमें देशी पौधों और जानवरों को परेशान नहीं करना चाहिए ताकि वे अपने प्राकृतिक आवास में स्वतंत्र रूप से रह सकें।
  8. भूमि विखंडन और वनों की कटाई कई प्रजातियों को बेघर कर रही है।
  9. सरकार ने जैव विविधता के संरक्षण और वन्यजीव अभ्यारण्य बनाने के लिए कानून बनाया।
  10. मनुष्यों को भी अपने कार्यों की जिम्मेदारी लेने की जरूरत है, और सचेत रूप से पर्यावरण को प्रदूषित करना बंद करना चाहिए।

जैव विविधता के संरक्षण पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1. घटती जैव विविधता के लिए कौन सा कारक जिम्मेदार है?

उत्तर: घटती जैव विविधता के लिए मनुष्य जिम्मेदार है।

प्रश्न 2. पृथ्वी ग्रह पर निवास करने वाली विभिन्न प्रजातियों की आकृति क्या है?

उत्तर: पृथ्वी ग्रह पर लगभग 8.7 मिलियन विभिन्न प्रजातियाँ निवास करती हैं।

प्रश्न 3. जैव विविधता हॉटस्पॉट से आपका क्या तात्पर्य है और वर्तमान में कितने हैं?

उत्तर: जैव विविधता हॉटस्पॉट दुनिया भर में जैविक-समृद्ध क्षेत्र हैं जो निवासियों के नुकसान से खतरे में हैं। वर्तमान में, 30 से अधिक जैव विविधता हॉटस्पॉट हैं जिन्हें दुनिया मान्यता देती है।

प्रश्न 4. एक सामान्य व्यक्ति जैव विविधता का संरक्षण कैसे कर सकता है?

उत्तर: पृथ्वी के संसाधनों के दोहन में कटौती करना आवश्यक है। मनुष्य को अपनी गतिविधियों को प्रतिबंधित करना चाहिए जो प्राकृतिक पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहे हैं। हमें दुनिया भर में विभिन्न प्रजातियों को स्थिर करने के लिए सामूहिक प्रयास करना चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें :-

विषय
पर्यावरण पर निबंध बाढ़ पर निबंध
पर्यावरण के मुद्दों पर निबंध सुनामी पर निबंध
पर्यावरण बचाओ पर निबंध जैव विविधता पर निबंध
पर्यावरण सरंक्षण पर निबंध जैव विविधता के नुक्सान पर निबंध
पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य पर  निबंध सूखे पर निबंध
पर्यावरण और विकास पर निबंध कचरा प्रबंधन पर निबंध
स्वच्छ पर्यावरण के महत्व पर निबंध पुनर्चक्रण पर निबंध
पेड़ों के महत्व पर निबंध ओजोन परत के क्षरण पर निबंध
प्लास्टिक को न कहें पर निबंध जैविक खेती पर निबंध
प्लास्टिक प्रतिबंध पर निबंध पृथ्वी बचाओ पर निबंध
प्लास्टिक एक वरदान या अभिशाप?   पर निबंध आपदा प्रबंधन पर निबंध
प्लास्टिक बैग पर निबंध उर्जा सरंक्षण पर निबंध
प्लास्टिक बैग पर प्रतिबंध लगना  चाहिए पर निबंध वृक्षारोपण पर निबंध
प्लास्टिक बैग और इसके हानिकारक  प्रभाव पर निबंध वनों की कटाई के प्रभावों पर निबंध
अम्ल वर्षा पर निबंध वृक्षारोपण के लाभ पर निबंध
महासागर डंपिंग पर निबंध पेड़ हमारे सबसे अछे मित्र हैं पर निबंध
महासागरीय अम्लीकरण पर निबंध जल के महत्व पर निबंध
जलवायु परिवर्तन पर निबंध बाघ सरंक्षण पर निबंध
कूड़ा करकट पर निबंध उर्जा के गैर पारंपरिक स्त्रोतों पर निबंध
हरित क्रांति पर निबंध नदी जोड़ने की परियोजना पर निबंध
पुनर्निर्माण पर निबंध जैव विविधिता के सरंक्षण पर निबंध

Related Post

मिल्खा सिंह पर निबंध | Milkha Singh Essay in Hindi

मैरी कॉम पर निबंध | Essay on Mary Kom in Hindi | Mary Kom Essay in Hindi

नागरिक अधिकारों पर निबंध | Civil Rights Essay in Hindi

सामाजिक न्याय पर निबंध | Social Justice Essay in Hindi

Leave a Comment