प्लास्टिक बैग और इसके हानिकारक प्रभाव पर निबंध | Essay on Plastic Bag And Its Harmful Effects in Hindi | 10 Lines on Plastic Bag And Its Harmful Effects in Hindi

By admin

Updated on:

Essay on Plastic Bag And Its Harmful Effects in Hindi  :  इस लेख में हमने प्लास्टिक बैग और इसके हानिकारक प्रभाव  पर निबंध  के बारे में जानकारी प्रदान की है। यहाँ पर दी गई जानकारी बच्चों से लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं के तैयारी करने वाले छात्रों के लिए उपयोगी साबित होगी।

प्लास्टिक बैग और इसके हानिकारक प्रभाव: लोगों में बढ़ती मांग के कारण प्लास्टिक सामग्री का उत्पादन बढ़ा है। अन्य प्लास्टिक वस्तुओं में, प्लास्टिक की थैलियों की नागरिकों के बीच सबसे अधिक मांग है क्योंकि वे सस्ते हैं, पेपर बैग की तुलना में इनका असाधारण स्थायित्व है, और उपयोग और फेंकने की पहुंच है। लेकिन इन प्लास्टिक की थैलियों को गलत तरीके से फेंकने से ये कूड़े के कारण गलत जगहों पर भी पहुंच जाते हैं।

प्लास्टिक बैग और इसके हानिकारक प्रभाव पर निबंध | Essay on Plastic Bag And Its Harmful Effects in Hindi | 10 Lines on Plastic Bag And Its Harmful Effects in Hindi

 प्लास्टिक की थैलियां पर्यावरण के लिए बेहद खतरनाक हैं क्योंकि वे गैर-बायोडिग्रेडेबल हैं और इसे सड़ने में कई साल लग जाते हैं। हर साल प्लास्टिक की थैलियां लाखों जानवरों की जान ले लेती हैं, जिसमें समुद्री जीवन के लिए खतरा भी शामिल है।

आप  लेखों, घटनाओं, लोगों, खेल, तकनीक के बारे में और निबंध पढ़ सकते हैं  

बच्चों के लिए प्लास्टिक बैग और इसके हानिकारक प्रभाव पर 10 पंक्तियाँ

ये पंक्तियाँ कक्षा 1, 2, 3, 4 और 5 के छात्रों के लिए उपयोगी है।

  1. गैर-बायोडिग्रेडेबल सिंथेटिक उत्पाद को प्लास्टिक कहा जाता है।
  2. दुनिया के लोग लगभग एक ट्रिलियन प्लास्टिक बैग की खपत करते हैं।
  3. प्लास्टिक बैग हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग बन गए हैं क्योंकि लगभग हर स्थानीय स्टोर मालिक इसमें उत्पादों को ले जाने के लिए उपलब्ध कराता है।
  4. प्लास्टिक की थैलियों से समुद्र और महासागर खतरनाक रूप से प्रदूषित हो गए हैं।
  5. कुछ प्लास्टिक घटकों में भोजन के साथ प्रतिक्रिया करने और घातक विषाक्त स्थिति पैदा करने की संभावना होती है।
  6. भले ही प्लास्टिक की थैलियों को पुनर्नवीनीकरण और पुन: उपयोग किया जाना चाहिए, लेकिन लोग अक्सर इसे केवल एक बार उपयोग करने के बाद त्याग देते हैं।
  7. हमें प्लास्टिक की थैलियों के स्थान पर कपड़े या जूट के थैलों का प्रयोग करना चाहिए।
  8. प्लास्टिक की थैलियों के गलत निपटान के कारण भूमि और जल प्रदूषण होता है।
  9. मासूम जानवरों की मौत गलती से प्लास्टिक की थैलियों को खाने और फिर उसमें दम घुटने से होती है।
  10. हमें छोटे बच्चों को प्लास्टिक की थैलियों से खेलने नहीं देना चाहिए क्योंकि वे खतरनाक हो सकते हैं।

स्कूली छात्रों के लिए प्लास्टिक बैग और इसके हानिकारक प्रभाव पर 10 पंक्तियाँ

ये पंक्तियाँ कक्षा 6, 7 और 8 के छात्रों के लिए सहायक है।

  1. हम अपने दैनिक जीवन में बिना सोचे-समझे प्लास्टिक की थैलियों का उपयोग बिना परिणामों के बारे में सोच कर करते हैं।
  2. मृदा प्रदूषण का एक महत्वपूर्ण कारण प्लास्टिक की थैलियों का जमा होना है।
  3. प्लास्टिक की थैलियां अक्सर नालियों और पानी की आपूर्ति को उनके अवैध निपटान के कारण बंद कर देती हैं।
  4. सरकार को एक सख्त और दंडनीय अधिनियम पारित करना चाहिए जिससे लोगों द्वारा प्लास्टिक बैग के दुरुपयोग और गलत निपटान को कम किया जा सके।
  5. प्लास्टिक की थैलियों को जलाने पर जहरीला धुंआ निकलता है।
  6. प्रकृति वर्तमान में प्लास्टिक की थैलियों से बहुत दूषित है।
  7. प्लास्टिक की थैलियों से होने वाले प्रदूषण के कारण हर दिन कई प्रजातियां विलुप्त हो जाती हैं।
  8. बढ़ती आबादी और बढ़ते औद्योगीकरण के साथ प्लास्टिक बैग की मांग भी रोजाना बढ़ती जा रही है।
  9. प्लास्टिक की थैलियाँ जब उपजाऊ मिट्टी पर पड़ी होती हैं, तो वे नियत समय के साथ बांझ हो जाती हैं।
  10. प्लास्टिक के हानिकारक प्रभावों से सभी को अवगत होना चाहिए ताकि वे प्लास्टिक उत्पादों पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लें।

उच्च कक्षा के छात्रों के लिए प्लास्टिक बैग और इसके हानिकारक प्रभाव पर 10 पंक्तियाँ

ये पंक्तियाँ कक्षा 9, 10, 11, 12 और प्रतियोगी परीक्षाओं के छात्रों के लिए सहायक है।

  1. प्लास्टिक बैग आमतौर पर पॉली-एथिलीन और कुछ अन्य रासायनिक विषाक्त पदार्थों से बने होते हैं जिनमें ज़ाइलीन, एथिलीन ऑक्साइड और बेंजीन शामिल होते हैं।
  2. प्लास्टिक बैग की निर्माण इकाइयां प्रतिदिन बड़ी मात्रा में ऊर्जा की खपत करती हैं।
  3. प्लास्टिक की थैलियों के कारण सीवेज चैनल जाम होने का एक प्राथमिक कारण है।
  4. प्लास्टिक की थैलियों को जलाने पर नाइट्रोजन ऑक्साइड और सल्फर डाइऑक्साइड जैसी गैसें निकलती हैं, जो जहरीली होती हैं।
  5. प्लास्टिक की थैलियों के सड़ने या जलाने के दौरान जो गैसें पैदा होती हैं वे जहरीली होती हैं और कैंसर का कारण भी बनती हैं।
  6. प्लास्टिक के पुनर्चक्रण में प्लास्टिक के उत्पादन की तुलना में अधिक लागत आती है, इसलिए लोग इसे एक या दो उपयोग के बाद त्यागने का विकल्प चुनते हैं।
  7. जिस कचरे को रिसाइकिल किया जाना है, उसमें से प्लास्टिक बैग को अलग करना मुश्किल है।
  8. प्लास्टिक बैग सस्ते और आसानी से उपलब्ध हो सकते हैं, लेकिन पर्यावरण में जल्दी से नहीं सड़ने से बड़े पैमाने पर हानिकारक होते हैं।
  9. स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं द्वारा प्लास्टिक के कंटेनरों में परोसे जाने और संरक्षित किए जाने वाले भोजन पर प्रतिबंध लगाने की भी सलाह दी जाती है।
  10. प्लास्टिक बैग निर्माण उद्योग के मजदूर सांस और त्वचा संबंधी कई बीमारियों से पीड़ित हैं।

प्लास्टिक बैग और उसके हानिकारक प्रभावों पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1. हमें प्लास्टिक की थैलियों के उपयोग पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध क्यों लगाना चाहिए?

उत्तर: प्लास्टिक की थैलियां प्रदूषण, प्रजातियों के विलुप्त होने, स्वास्थ्य के लिए खतरा, अत्यधिक अपशिष्ट उत्पादन आदि जैसी कई समस्याओं के लिए जिम्मेदार हैं।

प्रश्न 2. प्लास्टिक की थैलियों के स्थान पर हम क्या उपयोग कर सकते हैं?

उत्तर: चीजों को ले जाने के लिए, आप कपड़े, रस्सी, जूट, या अन्य बायोडिग्रेडेबल लेकिन पर्यावरण के अनुकूल सामग्री से बने बैग का उपयोग कर सकते हैं। खाद्य उत्पादों को परोसने और संरक्षित करने के लिए लोग एल्युमिनियम, स्टील आदि से बनी भंडारण वस्तुओं का उपयोग कर सकते हैं।

प्रश्‍न 3. प्‍लास्टिक बैग हमारे लिए स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक कैसे हैं?

उत्तर: वन्यजीवों के लिए स्वास्थ्य के लिए खतरा होने के अलावा प्लास्टिक बैग हमारे लिए खतरनाक हो सकते हैं क्योंकि बच्चे इससे खेलते समय दुर्घटना का कारण बन सकते हैं। साथ ही, प्रदूषण के कारण भूजल स्रोत तक पहुंचने पर प्लास्टिक की थैलियां पीने के पानी में विषाक्त पदार्थों के मिश्रण और बीमारियों का कारण बनती हैं। इसी तरह, बीमारियां फैलाने वाले कीड़े गलत तरीके से फेंके गए प्लास्टिक बैग पर प्रजनन करते हैं जो स्वास्थ्य के लिए भी उतना ही खतरनाक है, जिस पर ध्यान दिया जाना चाहिए।

प्रश्न 3. एक कारण बताएं कि भारत में प्लास्टिक की थैलियों को पूरी तरह से प्रतिबंधित क्यों किया जाना चाहिए?

उत्तर: सांख्यिकीय रिपोर्टों के अनुसार, भारत केवल हर साल लगभग बीस हजार टन प्लास्टिक कचरे का उत्पादन करता है।

इन्हें भी पढ़ें :-

विषय
पर्यावरण पर निबंध बाढ़ पर निबंध
पर्यावरण के मुद्दों पर निबंध सुनामी पर निबंध
पर्यावरण बचाओ पर निबंध जैव विविधता पर निबंध
पर्यावरण सरंक्षण पर निबंध जैव विविधता के नुक्सान पर निबंध
पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य पर  निबंध सूखे पर निबंध
पर्यावरण और विकास पर निबंध कचरा प्रबंधन पर निबंध
स्वच्छ पर्यावरण के महत्व पर निबंध पुनर्चक्रण पर निबंध
पेड़ों के महत्व पर निबंध ओजोन परत के क्षरण पर निबंध
प्लास्टिक को न कहें पर निबंध जैविक खेती पर निबंध
प्लास्टिक प्रतिबंध पर निबंध पृथ्वी बचाओ पर निबंध
प्लास्टिक एक वरदान या अभिशाप?   पर निबंध आपदा प्रबंधन पर निबंध
प्लास्टिक बैग पर निबंध उर्जा सरंक्षण पर निबंध
प्लास्टिक बैग पर प्रतिबंध लगना  चाहिए पर निबंध वृक्षारोपण पर निबंध
प्लास्टिक बैग और इसके हानिकारक  प्रभाव पर निबंध वनों की कटाई के प्रभावों पर निबंध
अम्ल वर्षा पर निबंध वृक्षारोपण के लाभ पर निबंध
महासागर डंपिंग पर निबंध पेड़ हमारे सबसे अछे मित्र हैं पर निबंध
महासागरीय अम्लीकरण पर निबंध जल के महत्व पर निबंध
जलवायु परिवर्तन पर निबंध बाघ सरंक्षण पर निबंध
कूड़ा करकट पर निबंध उर्जा के गैर पारंपरिक स्त्रोतों पर निबंध
हरित क्रांति पर निबंध नदी जोड़ने की परियोजना पर निबंध
पुनर्निर्माण पर निबंध जैव विविधिता के सरंक्षण पर निबंध

Related Post

मिल्खा सिंह पर निबंध | Milkha Singh Essay in Hindi

मैरी कॉम पर निबंध | Essay on Mary Kom in Hindi | Mary Kom Essay in Hindi

नागरिक अधिकारों पर निबंध | Civil Rights Essay in Hindi

सामाजिक न्याय पर निबंध | Social Justice Essay in Hindi

Leave a Comment