पर्यावरण संरक्षण पर निबंध | Essay on Environmental Protection in Hindi | 10 Lines on Environmental Protection in Hindi

By admin

Updated on:

Essay on Environmental protection in Hindi :  इस लेख में हमने पर्यावरण संरक्षण पर निबंध के बारे में जानकारी प्रदान की है। यहाँ पर दी गई जानकारी बच्चों से लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं के तैयारी करने वाले छात्रों के लिए उपयोगी साबित होगी।

 पर्यावरण संरक्षण पर निबंध : पर्यावरण हमारे अस्तित्व और पृथ्वी के अस्तित्व का आधार है। पर्यावरण हमारे आसपास के प्राकृतिक परिवेश का कुल योग है। पर्यावरण संरक्षण इस प्रकार मानव और मानव निर्मित गतिविधियों के गंभीर प्रभाव से पर्यावरण की सुरक्षा और बचत को संदर्भित करता है।

पर्यावरण संरक्षण पर निबंध | Essay on Environmental Protection in Hindi | 10 Lines on Environmental Protection in Hindi

पर्यावरण संरक्षण एक महत्वपूर्ण मुद्दा है क्योंकि पर्यावरण क्षरण के रास्ते पर है। इसे स्कूली छात्रों के बीच रचना के लिए एक उपयुक्त विषय के रूप में भी माना जाता है। पर्यावरण संरक्षण पर लंबे और छोटे निबंधों का एक सेट और दस पंक्तियों का एक सेट नीचे संकलित किया गया है। छात्र अपने स्वयं के निबंध लिखते समय इन नमूनों का उल्लेख कर सकते हैं।

आप  लेखों, घटनाओं, लोगों, खेल, तकनीक के बारे में और  निबंध पढ़ सकते हैं  

 छात्रों और बच्चों के लिए पर्यावरण संरक्षण पर लंबा और छोटा निबंध

पर्यावरण संरक्षण निबंध 100-150 शब्दों का है और कक्षा 1, 2, 3, 4, 5 और 6 के छात्रों के लिए उपयोगी है। पर्यावरण संरक्षण निबंध 450-500 शब्द लंबा है और 7, 8, 9 और 10 के छात्रों के लिए आवश्यक है।

पर्यावरण संरक्षण पर लंबा निबंध (500 शब्द)

पर्यावरण संरक्षण निबंध आमतौर पर कक्षा 7, 8, 9 और 10 को दिया जाता है।

(Long Essay on Environmental Protection in Hindi) : पर्यावरण संरक्षण का मामला अत्यंत अत्यावश्यक है क्योंकि पर्यावरण इस समय सबसे अधिक खतरे में है। विभिन्न मानव निर्मित गतिविधियों के कारण, स्थिति गंभीर खतरे में है।

हम कितनी भी कोशिश करें, हम उस विनाश को पूर्ववत नहीं कर सकते जो पहले ही हो चुका है। इस प्रकार, हमें जितना हो सके पर्यावरण पर मानवीय प्रभाव को कम करने की आवश्यकता है।

पर्यावरण में इसके तहत स्थलमंडल, वायुमंडल, जीवमंडल और जलमंडल शामिल हैं। लिथोस्फीयर हमारे आसपास की भूमि को संदर्भित करता है; जलमंडल में हमारे आसपास के सभी जल निकाय शामिल हैं; वायुमंडल में हमारे चारों ओर सभी गैसीय तरल पदार्थ होते हैं। पर्यावरण के बिगड़ने का मुख्य कारण भूमि, जल और वायु प्रदूषण है।

पर्यावरण संरक्षण का अर्थ है पर्यावरण की देखभाल करना और उसे बचाना है। सबसे पहले, पर्यावरण संरक्षण के बारे में जागरूकता फैलाई जानी चाहिए और परिचित लोगों को पर्यावरण संरक्षण की आवश्यकताओं के बारे में पता होना चाहिए।

पर्यावरण क्षरण को कुछ तरीकों से नियंत्रण में रखा जा सकता है। लोगों को पेड़ लगाने के लिए प्रेरित करना चाहिए। खेती और निर्माण उद्देश्यों के लिए जंगलों और वनस्पतियों को बड़े पैमाने पर साफ किया जा रहा है। इससे वन संसाधनों का बड़े पैमाने पर ह्रास हुआ है। पेड़ों की संख्या काफी कम हो गई है। पेड़ ही पृथ्वी में हमारे ऑक्सीजन का एकमात्र स्रोत हैं; पेड़ों और पौधों को साफ करने से हवा में उपलब्ध ऑक्सीजन की मात्रा में कमी और कमी होती है। यह पूरी मानवता को खतरे में डालता है। पेड़ों की वृद्धि को सुगम बनाकर हरियाली को बहाल किया जा सकता है और नुकसान की भरपाई की जा सकती है।

पर्यावरण की रक्षा के लिए प्रदूषण दर को कम किया जाना चाहिए। वायु, भूमि और जल प्रदूषण को नियंत्रण में रखने की आवश्यकता है। पानी की कीमतों पर कचरे का निपटान करते समय अत्यधिक सावधानी बरती जानी चाहिए; वाहनों और परिवहन का कम उपयोग वायु प्रदूषण को कम करने में मदद कर सकता है; भूमि प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए जमीन पर ठोस कचरे के लापरवाह डंपिंग को कम किया जा सकता है।

पर्यावरण संरक्षण के लिए पानी की बचत एक और प्रभावी उपाय है। जल एक महत्वपूर्ण संसाधन है, और यह अस्तित्व के लिए आवश्यक है। विशाल जनसंख्या की तुलना में पृथ्वी पर पीने योग्य ताजे पानी की मात्रा बहुत कम है। ऐसे में पानी को बचाना चाहिए। पानी की मांग कई गुना बढ़ जाती है, जबकि इसकी आपूर्ति घटती रहती है। इसलिए पानी की बर्बादी और अत्यधिक उपयोग पर अंकुश लगाना चाहिए।

अपशिष्ट प्रबंधन अभी तक एक और सिद्धांत है। कचरे के प्रबंधन का तात्पर्य कचरे के उचित निपटान से है। जल निकायों और भूमि पर अनुपचारित कचरे को डंप करने जैसी प्रथाओं को रोका जाना चाहिए। उपयुक्त कूड़ेदान, सीवर सिस्टम होना चाहिए, जहां लोग कचरे से छुटकारा पा सकें। नगर पालिका को इसका समुचित इलाज करना चाहिए।

इस प्रकार पर्यावरण प्रबंधन को लाने के तरीकों की संख्या असंख्य है। लोगों को अधिक जागरूक और जिम्मेदार होने की जरूरत है। उन्हें प्रकृति और पर्यावरण के साथ अपने दैनिक व्यवहार में सावधानी बरतने की तत्काल आवश्यकता को समझना चाहिए। उन्हें अधिक सतर्क रहना चाहिए।

पर्यावरण संरक्षण पर लघु निबंध (150 शब्द)

छोटा पर्यावरण संरक्षण निबंध आमतौर पर कक्षा 1, 2, 3, 4, 5 और 6 को दिया जाता है।

(Short  Essay on Environmental Protection in Hindi) : मानव और अन्य कारकों से होने वाले नुकसान से बचाने के लिए पर्यावरण की रक्षा करना पर्यावरण संरक्षण के रूप में जाना जाता है। मनुष्यों द्वारा नियमित रूप से की जा रही विभिन्न अनियंत्रित और चरम गतिविधियों के कारण अभी वातावरण बहुत प्रतिकूल स्थिति में है। स्थिति ऐसी हो गई है कि पर्यावरण के संरक्षण के मामले को बिना किसी और देरी के तुरंत संबोधित करने की जरूरत है। सरकार को लोगों के लिए कुछ जरूरी पर्यावरणीय जरूरतों को पूरा करना अनिवार्य बनाना चाहिए। इसके अलावा, पारिस्थितिक संरक्षण के सफल अभ्यास के लिए विभिन्न प्रभावी नीतियों और कार्यक्रमों को लागू किया जाना चाहिए।

पर्यावरण संरक्षण पर 10 पंक्तियाँ

  1. पृथ्वी की सतह पर मौजूद प्रत्येक जीवनरूप के संरक्षण और अस्तित्व में पर्यावरण सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  2. पर्यावरण से ही हमें विभिन्न प्राकृतिक संसाधनों जैसे भूमि, जल और वायु का लाभ मिलता है।
  3. पर्यावरण को हर कीमत पर संरक्षित और संरक्षित करने की आवश्यकता है।
  4. विभिन्न हानिकारक मानव और मानव निर्मित गतिविधियों के कारण पर्यावरण को अपूरणीय क्षति हुई है।
  5. पर्यावरणीय क्षति ग्लोबल वार्मिंग, बाढ़, सूखा आदि के अन्य संकटों की ओर ले जाती है।
  6. यदि हम पर्यावरण के संरक्षण और बचाव के लिए तत्काल उपाय नहीं करते हैं, तो इसका हम पर उल्टा और नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।
  7. पर्यावरण संरक्षण के कई तरीके हो सकते हैं।
  8. पौधों, पेड़ों और वन आवरण के दोहन को कम करना, वन महोत्सव और वृक्षारोपण जैसे आयोजनों को सुगम बनाया जाए।
  9. खासकर मेट्रो शहरों में बिजली संयंत्रों, धूआं आधारित गैसों और वाहनों की संख्या घटनी चाहिए। इससे वायु प्रदूषण कम होगा।
  10.  पर्यावरण की सुरक्षा प्राथमिक चिंता होनी चाहिए।

पर्यावरण संरक्षण पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1. क्या पर्यावरण संरक्षण आवश्यक है?

उत्तर: हाँ, पर्यावरण संरक्षण आवश्यक है और इस पर तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता है।

प्रश्न 2. पर्यावरण को कैसे बचाएं?

उत्तर: प्रदूषण को कम करके, वनों के दोहन को कम करके और अधिक सावधान और जागरूक रहकर पर्यावरण को बचाया जा सकता है।

प्रश्न 3. पर्यावरण निम्नीकरण का क्या कारण है?

उत्तर: मानवीय गतिविधियाँ, जब अत्यधिक मात्रा में की जाती हैं, तो पर्यावरणीय क्षरण का कारण बनती हैं।

इन्हें भी पढ़ें :-

विषय
पर्यावरण पर निबंध बाढ़ पर निबंध
पर्यावरण के मुद्दों पर निबंध सुनामी पर निबंध
पर्यावरण बचाओ पर निबंध जैव विविधता पर निबंध
पर्यावरण सरंक्षण पर निबंध जैव विविधता के नुक्सान पर निबंध
पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य पर  निबंध सूखे पर निबंध
पर्यावरण और विकास पर निबंध कचरा प्रबंधन पर निबंध
स्वच्छ पर्यावरण के महत्व पर निबंध पुनर्चक्रण पर निबंध
पेड़ों के महत्व पर निबंध ओजोन परत के क्षरण पर निबंध
प्लास्टिक को न कहें पर निबंध जैविक खेती पर निबंध
प्लास्टिक प्रतिबंध पर निबंध पृथ्वी बचाओ पर निबंध
प्लास्टिक एक वरदान या अभिशाप?   पर निबंध आपदा प्रबंधन पर निबंध
प्लास्टिक बैग पर निबंध उर्जा सरंक्षण पर निबंध
प्लास्टिक बैग पर प्रतिबंध लगना  चाहिए पर निबंध वृक्षारोपण पर निबंध
प्लास्टिक बैग और इसके हानिकारक  प्रभाव पर निबंध वनों की कटाई के प्रभावों पर निबंध
अम्ल वर्षा पर निबंध वृक्षारोपण के लाभ पर निबंध
महासागर डंपिंग पर निबंध पेड़ हमारे सबसे अछे मित्र हैं पर निबंध
महासागरीय अम्लीकरण पर निबंध जल के महत्व पर निबंध
जलवायु परिवर्तन पर निबंध बाघ सरंक्षण पर निबंध
कूड़ा करकट पर निबंध उर्जा के गैर पारंपरिक स्त्रोतों पर निबंध
हरित क्रांति पर निबंध नदी जोड़ने की परियोजना पर निबंध
पुनर्निर्माण पर निबंध जैव विविधिता के सरंक्षण पर निबंध

Related Post

मिल्खा सिंह पर निबंध | Milkha Singh Essay in Hindi

मैरी कॉम पर निबंध | Essay on Mary Kom in Hindi | Mary Kom Essay in Hindi

नागरिक अधिकारों पर निबंध | Civil Rights Essay in Hindi

सामाजिक न्याय पर निबंध | Social Justice Essay in Hindi

1 thought on “पर्यावरण संरक्षण पर निबंध | Essay on Environmental Protection in Hindi | 10 Lines on Environmental Protection in Hindi”

Leave a Comment