कूड़ा-करकट पर निबंध | Essay on Littering in Hindi | Littering Essay in Hindi

By admin

Updated on:

Littering Essay in Hindi  इस लेख में हमने कूड़ा-करकट पर निबंध के बारे में जानकारी प्रदान की है। यहाँ पर दी गई जानकारी बच्चों से लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं के तैयारी करने वाले छात्रों के लिए उपयोगी साबित होगी।

 कूड़ा-करकट पर निबंध: हम अक्सर लोगों को केले के छिलके, कागज के टुकड़े इधर-उधर फेंकते हुए देखते हैं। कई लोग सड़कों पर जाते समय वहां थूकते हैं और रैपर और अन्य कचरा सीधे सड़कों पर फेंक देते हैं। कई उद्योग और बड़े कारखाने भी रासायनिक अपशिष्ट उत्पन्न करते हैं जिन्हें वे बिना उचित उपचार के जल निकायों में फेंक देते हैं। पर्यावरण के प्रति लोगों के आलस्य और लापरवाही को देखकर वाकई बहुत दुख होता है।

कूड़ा-करकट एक पर्यावरणीय मुद्दा है और इस पर बहुत ध्यान देने की आवश्यकता है। इसके बावजूद लोगों को पर्यावरण की चिंता नहीं है। ये छोटे-छोटे कामों में या फिर बड़े-बड़े कामों में पर्यावरण को दूषित करते हैं। सरकार कचरे को साफ करने के लिए भी बड़ी राशि खर्च करती है जिसके लिए अर्थव्यवस्था भी प्रभावित होती है। इसलिए लोगों को इस बारे में जागरूक और संवेदनशील होने की जरूरत है। उन्हें कूड़े से छुटकारा पाने की आदतें सिखानी चाहिए लेकिन कुशलतापूर्वक और ठीक से।

आप विभिन्न विषयों पर निबंध पढ़ सकते हैं।

 कूड़ेदान पर लंबा निबंध(500 शब्द)

 कूड़ा-करकट का अर्थ है गैर-जिम्मेदाराना ढंग से अपशिष्ट पदार्थों को इधर-उधर फेंकना। यह एक पर्यावरणीय मुद्दा है और व्यक्तियों और सरकार से भी गंभीर चिंता को आकर्षित करता है। गंभीर सुझावों और चेतावनियों के बावजूद यह तर्कहीन और अनुशासनहीन रवैया थम नहीं रहा है। ऐसे कई तरीके हैं जिनसे लोग अपने आसपास गंदगी फैलाते हैं और पर्यावरण को गंदा करते हैं। वे आसपास के बारे में चिंतित नहीं हैं और मूर्ख के रूप में कार्य करते हैं। हालाँकि, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि कूड़ा-करकट हमारे पर्यावरण या परिवेश को गंदा करता है, लेकिन जानवरों और पौधों और मनुष्यों के स्वास्थ्य पर उनके कई बुरे प्रभाव पड़ते हैं।

 जब प्लास्टिक, जंग लगे लोहे की कीलें और प्लास्टिक को बिना रिसाइकिलिंग के सीधे फेंक दिया जाता है, तो पर्यावरण पर उनका कठोर प्रभाव पड़ता है। वे ज्यादातर गैर-बायोडिग्रेडेबल हैं। इसलिए, उन्हें विघटित करना मुश्किल है। इसके अलावा, वे हवा, पानी और मिट्टी में पर्यावरण को भी प्रदूषित करते हैं। कागज के टुकड़े, घरेलू उद्देश्यों के अन्य अपशिष्ट भी इस अस्वास्थ्यकर प्रथा को जोड़ते हैं। कई पक्षी और जानवर इन पदार्थों का सेवन करते हैं, और ये उनके श्वसन और पाचन तंत्र को अवरुद्ध या अवरुद्ध कर देते हैं। इस तरह उनका दम घुटने लगता है और उनकी मौत हो जाती है।

 अपने आस-पास को साफ सुथरा रखने के लिए हम कुछ छोटे-छोटे बदलाव अपना सकते हैं। हमें अपने कचरे को कूड़ेदान में फेंकना चाहिए। हमें प्लास्टिक और अन्य गैर-बायोडिग्रेडेबल कचरे को रीसायकल, पुन: उपयोग और कम करना चाहिए। हमें अपने घरेलू कचरे को सीधे सड़क पर नहीं फेंकना चाहिए, बल्कि निपटान के लिए उनका उचित उपचार करना चाहिए। साथ ही सड़कों पर कारों और अन्य वाहनों में यात्रा करते समय हमें रैपर, टिश्यू आदि को सड़क पर नहीं फेंकना चाहिए। जैविक कचरे के लिए विभिन्न प्रकार के अपशिष्ट प्रबंधन होना चाहिए। इनका उपयोग पौधों के लिए खाद के रूप में किया जा सकता है।

 ग्रामीण और दूरदराज के इलाकों में लोग जागरूक और सतर्क नहीं हैं। उन्हें समान चीजों के बारे में संवेदनशील बनाने की जरूरत है और उन्हें स्वच्छ प्रथाओं को अपनाने के लिए सिखाया जाना चाहिए। हालांकि, शहरी क्षेत्रों में रहने वाले लोग, इसके विपरीत, जो अच्छी तरह से शिक्षित हैं और इस बुरे प्रभावों से अवगत हैं, वे भी इन आदतों का अभ्यास नहीं करते हैं और लापरवाही से गैरेज इधर-उधर फेंक देते हैं। ऐसे लापरवाह रवैये को छोड़ कर उन्हें अपने आप में अच्छी आदतें सिखानी चाहिए।

जिम्मेदार नागरिक होने के नाते हमें अपने आसपास साफ-सफाई रखनी चाहिए। बचपन से ही छात्रों को कूड़े के बारे में पढ़ाया जाना चाहिए और उचित कचरा प्रबंधन कैसे करना है, इसके बारे में प्रशिक्षित किया जाना चाहिए। हमें पता होना चाहिए कि हम जिस वातावरण में रहते हैं वह हमारे स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ होना चाहिए। पर्यावरण के लिए हमारे कुछ दायित्व हैं। सरकार को चाहिए कि वह कचरे को ठीक से निपटाने के लिए उचित कदम उठाए और उनके प्रकारों के अनुसार अलग-अलग व्यवहार करे। व्यावसायिक स्थान भी बहुत अधिक कचरा उत्पन्न करते हैं और उनका सावधानीपूर्वक निपटान नहीं करते हैं। साथ ही जिन जगहों पर निर्माण हो रहे हैं, उन्हें प्रभावी ढंग से निपटाने में उनकी दिलचस्पी नहीं है।

सैनिटरी नैपकिन, टॉयलेट पेपर, टिश्यू और प्लास्टिक कचरे का उचित तरीके से निपटान किया जाना चाहिए। लोगों को इस बड़े पर्यावरणीय मुद्दे से निपटने के लिए आलस्य छोड़ देना चाहिए। साथ ही इसे सुरक्षित, स्वच्छ और हरा-भरा रखने के प्रयास किए जाने चाहिए। यदि केवल छोटी-छोटी चीजों को रोका जा सकता है और अपशिष्ट उत्पादन पर अंकुश लगाया जा सकता है, तो हम केवल इस बुराई से लड़ सकते हैं।

 कूड़ेदान पर लघु निबंध(150 शब्द)

 कूड़ा-करकट में कूड़ा-करकट और धूल-मिट्टी को इधर-उधर फेंकना लापरवाही से और कूड़ा-करकट डालने से पर्यावरण की कुरूपता होती है। यह गंदा दिखता है, और वहां बने रहना असहज हो जाता है। इसलिए हमें इधर-उधर की चीजें नहीं फेंकनी चाहिए। कूड़े के ढेर से पर्यावरण पर कई बुरे प्रभाव पड़ते हैं। जब पानी, हवा और मिट्टी में किया जाता है, तो वे कूड़े कर रहे हैं, जिसके परिणामस्वरूप जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण और मिट्टी प्रदूषण होता है।

 ये जीवित जीवों को बाधित करते हैं। सड़क पर प्लास्टिक का सेवन करने वाले मवेशी, पक्षी और अन्य जानवर मिलना बहुत आम बात है जो उनके पाचन तंत्र को बंद कर देते हैं और मौत की ओर ले जाते हैं। ग्रामीण क्षेत्र में कूड़ा-करकट फैलाने का मुख्य कारण जागरूकता की कमी है, जबकि शहरी क्षेत्रों में यह लापरवाही और आलस्य है। लोग इन प्रथाओं की अनदेखी कर रहे हैं और पर्यावरण को गंदा कर रहे हैं। बिट वे इसके कारण होने वाले कठोर प्रभावों से अनभिज्ञ हैं। इसलिए, बच्चों को स्वस्थ और स्वच्छ आदतों को विकसित करने के लिए स्कूल में पढ़ाया जाना चाहिए।

कूड़ा-करकट पर निबंध | Essay on Littering in Hindi | Littering Essay in Hindi

 कूड़ा-करकट पर 10 पंक्तियाँ

  1.  कूड़ा-करकट को लापरवाही से फेंकना हम कूड़ा-करकट कहते हैं।
  2. गंदगी से पर्यावरण प्रभावित होता है।
  3. लोग प्लास्टिक इधर-उधर फेंक देते हैं। जानवर इसका सेवन करते हैं और मर जाते हैं।
  4. गंदगी से भी प्रदूषण होता है।
  5. जैविक और अकार्बनिक कचरे का अलग-अलग उपचार किया जाना चाहिए।
  6. बड़ी निर्माण कंपनियों को उचित अपशिष्ट प्रबंधन तकनीकों को अपनाना चाहिए।
  7. लोगों को पर्यावरण के प्रति अपने दायित्वों के प्रति जागरूक होना चाहिए।
  8. डस्टबिन का प्रयोग करना चाहिए।
  9. घरेलू कचरे को बेवजह सड़कों पर नहीं फेंकना चाहिए।
  10. लोगों को पर्यावरण के प्रति संवेदनशील होना चाहिए।

कूड़ा-करकट निबंध पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 1. जैविक कचरे का उपचार कैसे करें?

उत्तर: जैविक कचरे का उपयोग खेती या किचन गार्डनिंग में खाद और खाद के रूप में किया जा सकता है।

प्रश्न 2. अकार्बनिक कचरे का उपचार कैसे करें?

उत्तर: प्लास्टिक, कांच आदि जैसे अकार्बनिक कचरे को कम किया जाना चाहिए, पुन: उपयोग किया जाना चाहिए और कूड़े को रोकने के लिए पुनर्नवीनीकरण किया जाना चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें :-

विषय
पर्यावरण पर निबंध बाढ़ पर निबंध
पर्यावरण के मुद्दों पर निबंध सुनामी पर निबंध
पर्यावरण बचाओ पर निबंध जैव विविधता पर निबंध
पर्यावरण सरंक्षण पर निबंध जैव विविधता के नुक्सान पर निबंध
पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य पर  निबंध सूखे पर निबंध
पर्यावरण और विकास पर निबंध कचरा प्रबंधन पर निबंध
स्वच्छ पर्यावरण के महत्व पर निबंध पुनर्चक्रण पर निबंध
पेड़ों के महत्व पर निबंध ओजोन परत के क्षरण पर निबंध
प्लास्टिक को न कहें पर निबंध जैविक खेती पर निबंध
प्लास्टिक प्रतिबंध पर निबंध पृथ्वी बचाओ पर निबंध
प्लास्टिक एक वरदान या अभिशाप?   पर निबंध आपदा प्रबंधन पर निबंध
प्लास्टिक बैग पर निबंध उर्जा सरंक्षण पर निबंध
प्लास्टिक बैग पर प्रतिबंध लगना  चाहिए पर निबंध वृक्षारोपण पर निबंध
प्लास्टिक बैग और इसके हानिकारक  प्रभाव पर निबंध वनों की कटाई के प्रभावों पर निबंध
अम्ल वर्षा पर निबंध वृक्षारोपण के लाभ पर निबंध
महासागर डंपिंग पर निबंध पेड़ हमारे सबसे अछे मित्र हैं पर निबंध
महासागरीय अम्लीकरण पर निबंध जल के महत्व पर निबंध
जलवायु परिवर्तन पर निबंध बाघ सरंक्षण पर निबंध
कूड़ा करकट पर निबंध उर्जा के गैर पारंपरिक स्त्रोतों पर निबंध
हरित क्रांति पर निबंध नदी जोड़ने की परियोजना पर निबंध
पुनर्निर्माण पर निबंध जैव विविधिता के सरंक्षण पर निबंध

Related Post

नागरिक अधिकारों पर निबंध | Civil Rights Essay in Hindi

सामाजिक न्याय पर निबंध | Social Justice Essay in Hindi

भ्रष्टाचार पर निबंध | Corruption Essay in Hindi

समाजशास्त्र पर निबंध | Sociology Essay in Hindi

Leave a Comment